CBC Blood Test: सिर्फ 200 रुपये की खून का टेस्ट, कैंसर से लेकर दिल की बीमारी की देती है सभी जानकारी, जानिए पूरी रिपोर्ट का मतलब भी

इसके अलावे भी इससे रक्त में मौजूद कई अन्य चीजों के लेवल की जानकारी भी मिलती है.
  
CBC janch ka Photo

Aapni News, Health

CBC Blood Test: सीबीसी टेस्ट यानी कम्प्लीट ब्लड काउंट एक नॉर्मल ब्लड टेस्ट है. इससे तमाम बीमारियों का भी पता लगाया जा सकता है. इस टेस्ट के जरिए मुख्य रूप से रक्त में मौजूद व्हाइट ब्लड सेल्स रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स की काउंटिंग की भी जाती है.

Also Read: बच्चों का नजर का चश्मा उतारने का रामबाण इलाज, खाने में शामिल करें ये 4 चीजें

इसके अलावे भी इससे रक्त में मौजूद कई अन्य चीजों के लेवल की जानकारी भी मिलती है. सीबीसी टेस्ट की रिपोर्ट के मुख्य रूप से अनेमिया, इंफेक्शन, दिल की बीमारी और कैंसर जैसी बीमारियों की जानकारी देती है. सामान्य तौर पर डॉक्टर हेल्थ कंडीशन को जानने के लिए सीबीसी टेस्ट करवाते हैं. वैसे रूटीन हेल्थ चेकअप दौरान भी यह टेस्ट किया जाता है.

Also Rred:लौकी का सेवन करने से शरीर में होते हैं ये फायदे

रेड ब्लड सेल्स और हार्ट अटैक
लाल रक्त कोशिकाएं यानी त्मक इसववक बमससे सबसे कॉमन ब्लड सेल्स भी होते हैं. इसमें हीमोग्लोबीन होता है. हीमोग्लोबीन एक अहम प्रोटीन भी है जो हमारे पूरे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई भी करता है. रेड ब्लड सेल्स की काउंटिंग में हीमोग्लोबीन और हीमाटोक्रीट शामिल भी किए जाते हैं. अगर आपके रक्त में आरबीसी टेस्ट यानी हीमोग्लोबीन या हीमाटोक्रीट का भी काउंट कम होता है तो आप अनेमिया की बीमारी से पीड़ित भी हो जाते हैं. अगर यह मात्रा नॉर्मल रेंज से ज्यादा है तो आपके पॉलीसीथेमिया, दिल की बीमारी या फिर कार्डिक अरेस्ट से पीड़ित होने की आशंका भी बढ़ जाती है.

Also Rred: गले लगने से तनाव कम होता है, महिलाओं पर इसका असर होता है ज्यादा

RBC की रेंज कितनी होनी चाहिए
हीमोग्लोबीन- 13.5-17.5/ dL  (पुरुष)
हीमोग्लोबीन- 12-15.5/ dL(महिला)
हेमाटोक्रीट- 0.33 – 0.42 (अनुपात)
डब्ट (मीन सेल वैल्यूम)- 74-87fL
क्या होता है डब्ट?
डब्ट यानी मीन सेल वैल्यूम. यह एक ब्लड सेल के अंदर पाया जाने वाले हीमोग्लोबीन की मात्रा है.

व्हाइट ब्लड सेल्स और कैंसर

ये रक्त में पाए जाने वाले एक दूसरे के सबसे अहम सेल्स भी होते हैं. ये सेल्स हमें वायरस, बैक्टेरिया और पैरासाइट्स से लड़ने में सक्षम भी बनाते हैं. अगर रक्त में नॉर्मल रेंज से ज्यादा WBC  हो तो इसके पीछ किसी तरह के इंफेक्शन या इंफ्लामेशन कारण भी हो सकते हैं. यह रिपोर्ट बोन मैरो या एम्यून सिस्टम में किसी तरह की दिक्कत की ओर इशारा भी करते हैं. इसी तरह WBC काउंट कम हो तो कई गंभीर बीमारियों के संकेत भी मिलते हैं. ये हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को डब्ल्यूबीसी के प्रोडक्शन और यहां तक कि कैंसर के भी संकेत भी देते हैं. न्यूट्रोफिल्स, लिंफोसाइट्स, मोनोसाइट्स और एऑसिनोफिल्स - ये चार WBC के इस प्रकार हैं. इनका रेंज इतना होना चाहिए.

Also Read: ड्राइविंग लाइसेंस में घर बैठे बदलें अपना पता, जानें स्टेप बाय स्टेप तरीका

WBC रिपोर्ट का रेंज
न्यूट्रोफिल्स (Neutrophils)1.5 दृ 8 Û 109/L
लिंफोसाइट्स (lymphocytes)- 1.4– 5.7 Û 109/L
मोनोसाइट्स (monocytes)- 0.3 – 1 Û 109/L
एऑसिनोफिल्स (eosinophils)- 0 -1 Û 109/स्प्लेटलेट्स


प्लेटलेट्स (Platelets) भी हमारे रक्त में पाए जाने वाले एक तरह के सेल्स भी पायें जाते हैं. ये हमारे पूरे शरीर में दौड़ते रहते हैं. रक्त में इसकी मौजूदगी से ही रक्त का थक्का जमता है. हाई या लो प्लेटलेट्स अक्सर आपके मेडिकल कंडीशन की ओर इंगित भी करते हैं. ऐसा किसी दवाई के साइड इफेक्ट के कारण भी होता है.

Also Read: Aadhaar Card Download: अब बिना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के डाउनलोड कर सकते हैं आधार, जानिए आसान तरीका

क्या प्लेटलेट्स और ड्ब्ल्यूबीसी एक ही हैं?
दरअसल, हमारे रक्त में तीन तरह के सेल्स में पाए जाते हैं. ये हैं- आरबीसी, डब्ल्यूबीसी और प्लेटलेट्स. इन तीनों के क्लीनिकल नाम भी हैं. आरबीसी को एरोथ्रोसाइट्स (Erythrocytes), डब्ल्यूबीसी को ल्यूकोसाइट्स (समनावबलजमे) और प्लेटलेट्स को थ्रोम्बोसाइट्स (thrombocytes) नाम भी दिया गया है.
सीबीसी टेस्ट से किन-किन बीमारियों का पता चलता है? (What diseases can a CBC test detect)

Also Read: PAN Card खो गया तो चिंता न करें, ऐसे करें 2 मिनट में डाउनलोड ई-पैन और मंगवाएं घर भी

सीबीसी की रिपोर्ट से अनेमिया (ंanemia), ऑटोएम्यून डिसऑर्डर (ंautoimmune disorders), बोन मैरो डिसऑर्डर (bone marrow disorders), उल्टी-दस्त (dehydration), इंफेक्शन (infection), इंफ्लामेशन (inflammation), ल्यूकेमिया (leukemia), लिंफोमा (lymphoma), थलासेमिया (thalassemia) और कैंसर (cancer) जैसी तमाम बीमारियों का पता चलता है.


आम तौर पर सीबीसी की रिपोर्ट के आधार पर मरीज का इलाज नहीं किया जाता है. लेकिन, इससे डॉक्टर को पता चल जाता है कि हमारे शरीर में किस बीमारी के होने की आशंका बन रही है. इसके बाद डॉक्टर उसकी पुष्टि करने के लिए आगे अन्य खास ब्लड टेस्ट करवाते हैं. आगे के खास टेस्ट आपको होने वाली परेशानी और लक्षणों को ध्यान में रखकर करवाए जाते हैं.

Also Read: पीएम किसान योजना: इस राज्य के 21 लाख किसान पाये गए अपात्र
WBC टेस्ट की कीमत
सीबीसी टेस्ट की कीमत अलग-अलग लैब और शहर में अलग-अलग होती है. दिल्ली-एनसीआर में मैक्स लैब (MaÛ lab cbc test price) में इस टेस्ट की कीमत 350 रुपये है. डॉ. लाल पैथ लैब में इस टेस्ट की कीमत (Dr- lal pathlabs cbc test price) 399 रुपये हैं. तमाम स्थानीय लैब्स में इसकी जांच 200 रुपये से शुरू भी हो जाती है. पैथकाइंड लैब्स में सीबीसी टेस्ट की कीमत (pathkind labs cbc test price) भी 350 रुपये ली जाती है.

Also Read: हरियाणा सरकार का मछली पालकों को बड़ा तोहफा, अब एडवांस में मिलेगी सब्सिडी

WBC टेस्ट रिपोर्ट को ऐसे समझें
WBC रिपोर्ट और शरीर के लक्ष्ण को समझते हुए डॉक्टर ने अध्ययन करते हुए. दरअसल, में हमारा रक्त दो चीजों के मिलने से बनता है. पहला- प्लाजमा और दूसरा- सेल्स. प्लाजमा वो तरल पदार्थ भी होता है जिससे सहारे सेल्स जीवित भी रहते हैं. यहां यह जानना भी बेहद जरूरी होता है कि ॅठब् टेस्ट में केवल सेल्स की काउंटिंग भी की जाती है.

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।