कान की समस्या: कान की सूजन और दर्द से बचने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

  
Health

Aapni News, Health

कान की समस्या होने पर बाहरी आवाजें न सुन पाने के कारण उसके चिड़चिड़े होने की संभावना अधिक होती है। सेहत पर ज्यादा ध्यान देना बेहद जरूरी है। कान आंतरिक रूप से मस्तिष्क, नाक, मुंह और आंखों सहित अन्य महत्वपूर्ण अंगों से जुड़ा होता है। कान के दर्द के कारण अन्य अंगों में भी दर्द हो सकता है।

पाँचों इन्द्रियों में कान भी एक महत्वपूर्ण इन्द्रिय है। आंखों की तरह ही कान की देखभाल भी जरूरी है। क्योंकि कान सबसे संवेदनशील और महत्वपूर्ण अंग (मुख्य भाग) है। यह एक सर्वविदित तथ्य है। हालांकि, बहुत से लोग कान के स्वास्थ्य की परवाह नहीं करते हैं। कान में दिक्कत हो तो बाहर का शोर आसानी से सुनाई नहीं देता। लोग यह भी नहीं सुन सकते कि वे किस बारे में बात कर रहे हैं। आप बहरापन, सुस्ती, दर्द सहित कई समस्याओं से ग्रसित हो सकते हैं। इसलिए कान की देखभाल और देखभाल बहुत जरूरी है।

कान की समस्या और देखभाल

कान की समस्या होने पर बाहरी आवाजें न सुन पाने के कारण उसके चिड़चिड़े होने की संभावना अधिक होती है। सेहत पर ज्यादा ध्यान देना बेहद जरूरी है। कान आंतरिक रूप से मस्तिष्क, नाक, मुंह, आंखों सहित अन्य महत्वपूर्ण भागों से जुड़ा होता है। कान में दर्द और अन्य अंगों में दर्द होना भी संभव है। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. के मुताबिक, कान में दर्द, सूजन और रुकावट को ठीक करने के घरेलू उपाय हैं। सर्दियों में कान का दर्द, कान का संक्रमण तब होता है जब बैक्टीरिया, वायरस और कवक कान के भीतरी, मध्य या बाहरी हिस्से में प्रवेश कर जाते हैं। इससे निजात पाना जरूरी है।

तुलसी कान के दर्द को दूर करती है

तुलसी में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण होते हैं। यह कान के दर्द और संक्रमण से राहत दिलाता है।

कान के दर्द से राहत पाने के लिए तुलसी के पत्तों को पीस लें। अब इसके रस को छान लें और एक से दो बूंद कान में डालें।

लौंग का तेल कान के दर्द से बचाता है

लौंग का तेल कान दर्द निवारक है। विरोधी भड़काऊ गुण है। लौंग का तेल कान के दर्द के इलाज में कारगर है। एक चम्मच तिल के तेल में एक लौंग उबालें और इसे ठंडा होने दें। तेल को छान लें और गर्म तेल की 2 बूंदों को प्रभावित कान में लगाएं।

कान के दर्द के लिए जैतून के तेल का रामबाण इलाज

हल्के से मध्यम कान के दर्द के लिए जैतून का तेल एक घरेलू उपचार है। एक चम्मच जैतून का तेल गर्म करें और इसे ठंडा होने दें। 2 बूंद प्रभावित कान में डालें।

चाय के पेड़ का तेल कान का दर्द ठीक करने के लिए

चाय के पेड़ के तेल में एंटीफंगल, जीवाणुरोधी, विरोधी भड़काऊ और विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं। यह कान के दर्द को रोकता है।

दो बूंद टी ट्री ऑयल में एक बड़ा चम्मच जैतून का तेल, तिल का तेल या नारियल का तेल मिलाकर कान में डालें।

लहसुन कान की सूजन को कम करता है

कान के आसपास के क्षेत्र की सूजन को रोकने के लिए लहसुन और अदरक के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण फायदेमंद होते हैं। सूजन कम करता है। कान का दर्द कम करता है।

लहसुन की तीन कलियां गर्म करके उसमें एक चुटकी नमक मिलाकर कपड़े में रखकर दर्द वाले कान पर दबाएं। ताजे अदरक के टुकड़े का रस प्रभावित कान के पास की त्वचा पर लगाएं।

जलनेती

जलनेति आयुर्वेदिक उपचार। एक नथुने से पानी डाला जाता है और दूसरे से बाहर निकाला जाता है। इससे नाक और कान के बीच के रास्ते में जमा हुआ कफ साफ हो जाता है। नीलगिरी के तेल की कुछ बूंदों को स्टीम किया जा सकता है।

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।