Health Tips: आपका वजन आपकी उम्र और लंबाई के हिसाब से होना चाहिए, क्यों नहीं?

  
Health
वजन कम करना कोई आसान काम नहीं है। शरीर के वजन को कम करने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है जिसे आसानी से हासिल किया जा सकता है। वजन घटाने का कोई शॉर्ट कट नहीं होता, इसलिए इसे कम करने के लिए आपको काफी मेहनत करनी पड़ती है। नहीं तो स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें आएंगी।

वजन कम करना कोई सामान्य काम नहीं है। शरीर का वजन जो आसानी से बढ़ जाता है उसे कम करने में काफी मेहनत लगती है। वजन घटाने का कोई शॉर्ट कट नहीं है, इसलिए इसे मेहनत के साथ करना होगा। लेकिन इससे पहले व्यक्ति को यह जान लेना चाहिए कि उसे कितना अतिरिक्त वजन कम करने की जरूरत है। यानी किसी व्यक्ति की हाइट (ऊंचाई) की सही जानकारी होनी चाहिए कि उसकी उम्र (उम्र) के संबंध में उसका वजन कितना होना चाहिए।

विशेषज्ञों के अनुसार, किसी व्यक्ति के वजन का उसके शरीर के प्रकार, जीवनशैली और एक दिन में की जाने वाली शारीरिक गतिविधियों से बहुत कुछ संबंध होता है।

वे जो भी हों, आप वजन के अनुपात में सही ऊंचाई को जानकर अपना वजन कम कर सकते हैं।

मोटापे जैसे रोग से दूर रहें

बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट, दिल्ली के सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन डॉ. अरविंद अग्रवाल कहते हैं, यह मोटापे जैसी बीमारियों से बचने में मदद करता है।

डॉ। के मुताबिक हर इंसान को अपनी हाइट के हिसाब से वजन मेंटेन करना चाहिए। अगर ऐसा संभव न हो तो कई बीमारियों को न्यौता दिया जाता है। कई लोगों को यह नहीं पता होता है कि उनकी हाइट के लिए कितना वजन होना चाहिए।

बॉडी मैक्स इंडेक्स क्या है?

आमतौर पर ऊंचाई और वजन की गणना बीएमआई (बॉडी मैक्स इंडेक्स) पर आधारित होती है। यह किसी व्यक्ति के वजन को उनकी ऊंचाई के संबंध में मापने के लिए एक सामान्य उपकरण है।

* बीएमआई 18.5 से कम होने का मतलब है कि व्यक्ति का वजन कम है।

*18.5 और 24.9 के बीच बीएमआई आदर्श है।

*बीएमआई 25 और 29.9 के बीच अधिक वजन है।

*30 से अधिक बीएमआई अधिक वजन या मोटापे को दर्शाता है।

 आंतरिक चिकित्सा के सलाहकार डॉ. के मुताबिक बीएमआई वजन मापने की गलत अवधारणा है।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय चिकित्सा संघ भी बीएमआई कैलकुलेटर पर कम निर्भरता की सलाह देते हैं।

आपकी उम्र और लंबाई के अनुसार ही आपका वजन होना चाहिए, यह अलग क्यों है?

ऐसी समस्याओं से सावधान रहें

बीएमआई डॉक्टरों या जीवविज्ञानियों द्वारा तैयार नहीं किया गया था। इसे गणितज्ञों द्वारा विकसित किया गया था। यह मांसपेशियों के द्रव्यमान, अस्थि घनत्व, समग्र शरीर संरचना, जातीय और लिंग अंतर को ध्यान में नहीं रखता है। बीएमआई के साथ कई समस्याएं हैं, 

लोगों को यह देखने की जरूरत है कि उनका फिटनेस स्तर कैसे बना रहता है, क्या वे बिना किसी समस्या के अपने दैनिक कार्यों को करने में सक्षम हैं। डॉ  कहते हैं कि उन्हें विश्लेषण करना चाहिए कि क्या वे सही खा रहे हैं, व्यायाम कर रहे हैं, पर्याप्त नींद ले रहे हैं।

कितनी लंबाई के लिए कितना वजन होना चाहिए?

ऊंचाई और वजन का एक विशिष्ट अनुपात एक अन्य डॉक्टर डॉ अरविंद द्वारा निम्नानुसार सूचीबद्ध किया गया है। तो आइए देखें कि ऊंचाई के लिए आदर्श वजन क्या होना चाहिए।

* अगर कद 4 फीट 10 इंच है तो आदर्श वजन 41 से 52 किलो होना चाहिए। इससे ज्यादा सेहत के लिए ठीक नहीं है।

* अगर कद 5 फीट है तो वजन 44 से 55.7 किलो के बीच होना चाहिए।

* अगर कद 5 फीट 2 इंच है तो वजन 49 से 63 किलो के बीच होना चाहिए।

* अगर कद 5 फीट 4 इंच है तो वजन 49 - 63 किलो के बीच होना चाहिए।

* 5 फीट 6 इंच की लंबाई वाले व्यक्ति का वजन 53 - 67 किलो होना चाहिए।

* अगर कद 5 फीट 8 इंच है तो वजन 56 से 71 किलो होना चाहिए।

* अगर 5 फीट 10 इंच है तो वजन 59 से 75 किलो होना चाहिए।

* अगर कद 6 फीट है तो सामान्य वजन 63 से 80 किलो के बीच होना चाहिए।

मेडिकल न्यूज के अनुसार, किसी व्यक्ति के फिटनेस स्तर को मापने के लिए शरीर में वसा प्रतिशत की गणना करना एक आदर्श तरीका है। क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह उनके शरीर की बनावट को दर्शाता है।

लेप्रोस्कोपिक और बेरियाट्रिक सर्जन अपर्णा गोविल भास्कर कहती हैं, ''समान कद और उम्र के दो अलग-अलग लोगों का वज़न एक जैसा हो सकता है।

वही बीएमआई लेकिन उनकी वसा और मांसपेशियों की सामग्री अलग हो सकती है। एक में अधिक मांसपेशियां और कम वसा हो सकती है और दूसरे में अंतर दिखाई दे सकता है।

आपकी उम्र और लंबाई के अनुसार ही आपका वजन होना चाहिए, यह अलग क्यों है?

कम कैलोरी खाने से फैट पिघलेगा!

साथ ही, विशेषज्ञों का सुझाव है कि एक आदर्श वजन बनाए रखने की कुंजी कैलोरी की कमी में निहित है।

इसका मतलब है कि आप खाने से ज्यादा कैलोरी जलाते हैं, नियमित व्यायाम के साथ कम कैलोरी खाने से आपको शरीर की चर्बी कम करने में मदद मिल सकती है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि कम कैलोरी का सेवन करने पर शरीर फैट बर्न करता है। हालांकि, बहुत कम कैलोरी लेने से मांसपेशियों की हानि हो सकती है। इसलिए बेहतर है कि वजन घटाने की जगह फैट लॉस को प्राथमिकता दी जाए।

जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां बढ़ती हैं

"जीवन शैली की बीमारी या जीवन शैली की बीमारियाँ तब बढ़ती हैं जब शरीर में वसा अधिक होती है। पुरुषों के लिए 15 या उससे कम शरीर में वसा प्रतिशत की सिफारिश की जाती है।

फिटनेस विशेषज्ञ बाला कृष्ण रेड्डी डब्बेदी कहते हैं, महिलाओं के लिए 25 या उससे कम शरीर वसा प्रतिशत की सिफारिश की जाती है।

शरीर में वसा प्रतिशत कैसे मापें?

- ऑनलाइन कैलकुलेटर, जैसे कि FITTR ऐप, को बॉडी फैट कैलकुलेटर द्वारा मापा जा सकता है

- स्किनफोल्ड कैलीपर्स

- एक DEXA या BCA (शरीर रचना विश्लेषण)

स्कैन की उम्र के हिसाब से वजन कितना होना चाहिए?

सीडीसी के अनुसार, डॉ। ने साझा किया।

*19-29 साल के लड़के का वजन 83.4 किलो होना चाहिए। लेकिन लड़की का वजन 73.4 किलो तक होना चाहिए।

*30-39 साल के लड़के का वजन 90.3 किलो और लड़की का वजन 76.7 किलो तक होना चाहिए।

* 40-49 साल के पुरुष का वजन 90.9 किलो तक, महिला का 76.2 किलो तक होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Healthy Lifestyle: शरीर में फैट जितना नुकसान पहुंचाता है ट्राइग्लिसराइड, इसे कंट्रोल करने के लिए करें ये काम

*50-60 साल के पुरुष का वजन 91.3 किलो और महिला का वजन 77.0 किलो तक होना चाहिए।

एक समग्र स्वस्थ जीवन शैली अपनाने से स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

अच्छे वजन से हम कई बीमारियों से बच सकते हैं। इसलिए अगर आपको पता है कि आपकी हाइट के हिसाब से आपका वजन कितना होना चाहिए और उसी हिसाब से अपना वजन कंट्रोल करें तो आप स्वस्थ रह सकते हैं।

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।