Chanakya Niti: हर व्यक्ति इन 6 विषयों पर हमेशा करते रहें सोच-विचार, मनुष्य के जीवन में मिल सकती है सफलता

वर्तमान समय में चाणक्य नीति के द्वारा भी ऐसा भी किया जा रहा है। कई बड़े संस्थानों में चाणक्य नीति को अपनाकर महत्वपूर्ण शिक्षा के रूप में पढ़ा और सुना भी जाता है।
  
Aacharya Chankaya Ka Photo

Aapni News, Lifestyle

Chanakya Niti: मनुष्य के जीवन में विद्या को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। जिस व्यक्ति के पास विद्या रूपी धन भी होता है, वह सदैव अपने कर्मों से धन एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति भी करता है और अपने कुल का नाम ऊंचा भी करता है। आचार्य चाणक्य की इसी शिक्षा को अपनाकर अनेको भटके हुए युवाओं के सद्मार्ग को अपनाया है। जो लोग आचार्य चाणक्य द्वारा दी गई शिक्षा का पालन भी करके अपना जीवन व्यतीत करते हैं, वह सदैव सफल होते हैं। वर्तमान समय में चाणक्य नीति के द्वारा भी ऐसा भी किया जा रहा है।

Also Read: Chanakya Niti: इंसान की ये 1 गलती सभी अच्छाइयों पर फेर देगी पानी, फिर इंसान ना घर का रहेगा ना घाट का

कई बड़े संस्थानों में चाणक्य नीति को अपनाकर महत्वपूर्ण शिक्षा के रूप में पढ़ा और सुना भी जाता है। आयार्य चाणक्य नीति में कई ऐसी बातें बताई गई हैं, जिनका ध्यान रखकर व्यक्ति सफलता की ओर बिना रुके आगे भी बढ़ सकता है। ऐसे ही एक शिक्षा आचार्य चाणक्य ने यह भी दी है कि व्यक्ति को महत्वपूर्ण सफलता के लिए बार-बार किस विषय में सोचना भी पड़ता है। आइए जानते हैं-

इन 6 विषयों पर हमेशा करें सोच-विचार

कः कालः कानि मित्राणि को देशः को व्ययागमोः ।

कस्याहं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुहुः ।।

Also Read:  आचार्य चाणक्य ने जाने क्यों बताया ऐसे माता, पिता, पत्नी और संतान को आपका शत्रु

अर्थात- कैसा समय है? मेरा सबसे अच्छा मित्र कौन है? मेरा स्थान कैसा है? मेरे पास आय-व्यय के क्या साधन हैं? मैं कौन हूं और मेरी क्या रूची है? इन सभी विषयों के बारे में बार बार सोचना बेहद जरूरी होना चाहिए।

Also Read: धन लाभ और समृद्धि के लिए घर में लगाएं दौड़ते घोड़ों की तस्वीर

व्याख्या- चाणक्य नीति के अनुसार इस श्लोक में आचार्य चाणक्य ने यह भी समझाया है कि व्यक्ति को 6 विषयों पर हमेशा विचार करते रहना चाहिए और उसी मार्ग पर चलते हुए कार्य करना भी चाहिए। सबसे पहले समय को आचार्य चाणक्य ने बहुत मूल्यवान भी बताया है। जो कि व्यक्ति समय का पालन सही रूप से कर सके, वही हमेशा सफल बनता है।

Also Read: Relationship Tips: इन आदतों को तुरंत सुधारें, जीवनसाथी के साथ संबंध खराब कर सकते हैं

दूसरा विषय मित्र है। जो व्यक्ति अच्छे मित्रों की संगत में रहता है, उसे कोई भी बुरी शक्ति अपने वश में नहीं कर सकती है। आचार्य चाणक्य ने तीसरा विषय स्थान को बताया है। जो व्यक्ति जिस स्थान पर रहता है, उसकी उन्नति के लिए हमेशा सोचता है वही श्रेष्ठ कहलाता है। साथ ही सद्मार्ग पर चलते किस आय अर्जित करे, इसके विषय में भी व्यक्ति को हमेशा सोचना चाहिए। अंत में उन्होंने स्वयं के विषय में और स्वयं की शक्ति के विषय में बताया है। जो व्यक्ति आत्मचिंतन कर स्वयं को पहचानता लेता है, वही अपनी शक्तियों का सही इस्तेमाल करता है।

 

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।