Kesar Ki Kheti: कश्मीर के केसर को UP में उगा कर कमा रहा अच्छा ख़ासा मुनाफा

  
Kesar

Aapni News, Business Idea 

बाजार में केसर की खेती 3 लाख रुपये किलोग्राम तक है. इसकी खेती के लिए कश्मीर सबसे उपयुक्त जगह मानी जाती है. अन्य प्रदेशों का जलवायु इसकी खेती के लिए सही नहीं माना जाता है. हालांकि, गौतबुद्धनगर के रहने वाले इंजीनियर रमेश गेरा ने नोएडा में केसर की सफल खेती कर कमाल कर दिखाया है.

विपरीत जलवायु, फिर भी नोएडा में कैसे उगा दिया केसर

केसर को सिर्फ ठंडे इलाके वाली जगह में ही उगाया जा सकता है. इसके लिए विशेष प्रकार की मिट्टी की भी आवश्यकता होती है. ऐसे में नोएडा में केसर की खेती के लिए रमेश गेरा ने यहां 10/10 के कमरे मेैं कश्मीर जैसे जलवायु को विकसित किया. साथ ही कश्मीर से मिट्टी मंगवाकर केसर की खेती करनी शुरू की. फिलहाल, इंजीनियर रमेश गेरा केसर की खेती से सालाना लाखों का मुनाफा कमा रहे हैं.

Also Read: इस कैंडिडेट का है UPSC इंटरव्यू में सबसे Highest Score, नहीं तोड़ सका आज तक कोई रिकॉर्ड

कोरिया से सीखी एडवांस फार्मिंग, नोएडा में किया प्रयोग

64 वर्षीय इलेक्ट्रिकल इंजीनियर रमेश गेरा ने नोएडा में एडवांस फार्मिंग की मदद से केसर की खेती शुरू की। इसके लिए उन्होंने उन्नत दक्षिण कोरियाई कृषि में उचित प्रशिक्षण की ट्रेनिंग की है। 2017 में अपनी रिटायरमेंट के बाद उन्होंने पूरी तरह से केसर की खेती शुरू कर दी। पहले दो साल सफल नहीं रहे। इसके बाद रमेश गेरा कश्मीर पहुंचे। उन्होंने केसर की खेती की जांच की। वापस आकर उन्होंने फिर से केसर की खेती शुरू कर दी। इस बार वह केसर की अच्छी फसल लेने में सफल रहा।

रमेश कैदियों को केसर उगाना भी सिखाते हैं।

रमेश गेरा हरियाणा के हिसार से हैं। किसानों के लिए कुछ अलग और नया करने के लिए वह सलाह देते है, वह किसानों को हाइड्रोफोनिक, जैविक और मिट्टी रहित बहुस्तरीय कृषि तकनीकों पर प्रशिक्षित करना जारी रखते हैं। बड़ी संख्या में लोग उनसे कृषि के गुण सीखने आते हैं। इसके अलावा वह हरियाणा की जेलों में कैदियों को केसर उगाना भी सिखा रहे हैं। लोगों को पढ़ाने के अलावा रमेश गेरा खुद केसर की सब्जी उगाते थे।

Also Read: Chanakya Niti: ये चीजें गंदगी में पड़ी मिले तो उन्हें तुरंत उठाकर ले आएं अपने घर, जानें चाणक्य नीति में

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।