अब बैंगन से लाखों कमाता है किसान, इस तरीके से मिलेगी किसानों को पैदावार

अब बैंगन से लाखों कमाता है किसान, इस तरीके से मिलेगी किसानों को पैदावार

अब बैंगन से लाखों कमाता है किसान, इस तरीके से मिलेगी किसानों को पैदावार
X

Aapni News, Agriculture

हमारे जीवन में किसान बहुत ही महत्वपूर्ण रोल अदा करता है। किसान गर्मी, सर्दी और बरसात में भी हमारे लिए अन्न का इंतजाम करता है। लेकिन पिछले कुछ सालों में पारंपरिक खेती से किसानों को कापी नुकसान हुआ है. बड़ी उत्पादन लागत खर्च करने के बावजूद जलवायु परिवर्तन, मौसम की मार और कीट-रोगों के प्रकोप के कारण फसलें बर्बाद हो रही हैं. यही कारण है कि अब किसान कम लागत में टिकाऊ आमदनी कमाने के लिये बागवानी फसलों की खेती की तरफ बढ़ रहे हैं.

Also Read: किसान करेंगे अब खूब कमाई, बाजार में आई 60 किलो प्रॉडक्शन वाली नींबू की नई किस्म

जाहिर है कि कम कृषि लागत के चलते बैंगन जैसी बागवानी फसलों का रकबा बढ़ रहा है. किसान भी जोखिमों के डर को कम करने के लिये सब्जियों की खेती शुरू कर रहा है. इसके लिये खास तरीके से खेत की तैयारी करते हैं. सबसे पहले खेत में गहरी जुताईयां लगाकर रोटावेटर ने मिट्टी को भुरभुरा बना देते हैं.इसके बाद मेड़ मेकर मशीन से मेड़ और क्यारियां बनाते हैं.

Also Read: Maize Farming: इस बार फायदे का सौदा होगी मक्के की खेती, रूस-यूक्रेन युद्ध है वजह

बुवाई से पहले मेड़ों पर डिएपी का छिड़काव किया जाता है. इसके बाद ही नर्सरी में उन्नत बीजों से तैयार पौधों की रोपाई की जाती है. उनका मानना है कि मेड़ बनाने पर मिट्टी की सतह तो गर्म रहती है, लेकिन मेड़ पर लगे पौधों के लिये नमी कायम रहती है. इससे बैंगन के फल भी तेजी से बढ़ते हैं.

Also Read: कृषि वैज्ञानिकों ने तैयार की सरसों की दो नई किस्में, 139 दिन में पककर हो जाती है तैयार

बैंगन की खेती करने पर शुरुआती दिनों में ज्यादा पैदावार नहीं मिलती थी, लेकिन फसल की देखभाल करने पर 60 दिन के अंदर फल लगना शुरू हो गये और 70 दिन के बाद रोजाना फलों की तुड़ाई होने लगी. अब नृपेंद्र सिंह बैंगन की फसल से रोजाना 7 से 8 रुपये की आमदनी ले रहे हैं. इससे सालाना 3 से 4 लाख रुपये की कमाई हो जाती है.

Also Read: रंगीन मछलियां किसानों के लिये Good Luck लाएगी ऐसे, 60% सब्सिडी देगी सरकार

इसके बाद मेड़ मेकर मशीन से मेड़ और क्यारियां बनाते हैं. बुवाई से पहले मेड़ों पर डिएपी का छिड़काव किया जाता है. इसके बाद ही नर्सरी में उन्नत बीजों से तैयार पौधों की रोपाई की जाती है. उनका मानना है कि मेड़ बनाने पर मिट्टी की सतह तो गर्म रहती है, लेकिन मेड़ पर लगे पौधों के लिये नमी कायम रहती है. इससे बैंगन के फल भी तेजी से बढ़ते हैं.

Also Read: खरीफ सीजन में औषधीय खेती की उगायें इन 5 विशेष फसलों को, होगी बंपर कमाई

Also Read: गाय और भैंसों को इन देशी नुस्खों से बचाएं बीमारी से

Also Read: Goat Farming Loan 2022: बकरी पालन के लिए सरकार दे रही है लोन, जानें कैसे करें आवेदन

Also Read: सोलर पैनल घर की छत पर लगवाने में कितना आएगा खर्च? फ्री बिजली पाने का ये रहा पूरा हिसाब

Also Read: सोलर पंप लेने वाले किसान भूलकर भी ना करें ये गलती, वापिस देनी पड़ सकती है 75 प्रतिशत सब्सिडी की राशिAlso Read: केंद्र सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड पर डेढ़ फिसदी और बढ़ाया इंटरेस्ट सबवेंशन, किसानों को और कम लगेगा केसीसी पर ब्याज!

Tags:
Next Story
Share it