अगर आप भी पहली बार रख रही हैं करवाचौथ का व्रत तो रखें इन बातों का ध्यान, जानें इस बार कब है करवाचौथ

सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए हर साल रखती है करवाचौथ का व्रत.
  
karwa chouth ka photo

Aapni News, Dharam
करवा चौथ का व्रत पति-पत्नी के रिश्ते से जुड़ा सबसे बड़ा पर्व माना जाता है, जिसमें महिलाएं अपने पति के लिए निर्जला उपवास करती हैं। शाम को पूजा करती हैं और चांद देखकर अपना उपवास खोलती हैं। हर वर्ष बड़ी संख्या में देशभर से अधिकतर सुहागिन महिलाएं करवा चौथ का व्रत रखती हैं। इस बार करवा चौथ 13 अक्टूबर 2022 को मनाया जा रहा है।

Also Read: जानें धर्म ग्रंथों में क्यों वर्जित है लहसुन और प्याज का सेवन

शादी शुदा महिलाओं को करवा चौथ से जुड़े नियम और रीति रिवाजों के बारे में भी पता होता है लेकिन जिन महिलाओं की नई शादी हुई है और पहली बार करवा चौथ व्रत का उपवास कर रही हैं, तो वह इस व्रत को लेकर काफी उत्साहित होती हैं। हालांकि व्रत के बारे में कई बातें उन्हें पता भी नहीं होती। जाने-अनजाने या उत्साह में नवविवाहित महिलाएं करवा चौथ के उपवास में कई प्रकार की गलतियां भी कर जाती हैं। ऐसे में अगर आप भी पहली बार अपने पति के लिए करवा चौथ का व्रत रख रही हैं तो इन बातों का खास ख्याल रखें।

karwa chouth ka photo

Also Read: अगर आपके हाथ में नहीं रुकता है पैसा तो शारदीय नवरात्र में करें यह 10 उपाय, हो जाएंगे मालामाल!

करवा चौथ के व्रत में रखें इन बातों का ध्यान
नवविवाहित में महिलाओं के लिए उनका पहला करवा चौथ का व्रत महत्वपूर्ण होता है। इसलिए करवा चौथ के व्रत और पूजा की बारे में सभी जरूरी जानकारी, नियम और परंपराओं के बारे में पहले से जान लें। पहली बार करवा चौथ का व्रत की पूजा में शादी का लाल जोड़ा पहनकर बैठें। अगर शादी का लहंगा नहीं पहनना चाहती हैं तो शादी का दुपट्टा या साड़ी पहन सकती हैं।

Also Read: हरियाणा का ऐसा गांव जहां 155 सालों से नहीं मनाई होली, जानें वजह

karwa chouth ka photo

करवा चौथ के लिए महिलाएं पूजन और श्रृंगार की तैयारी पहले से ही कर लें। उस दिन के लिए कोई काम न छोड़ें।
व्रत के पहले और क्या खाना चाहिए, ये भी जान लें। उपवास में ऊर्जा कम न हो और सेहत पर कोई असर न हो, इस बात का ध्यान देकर ही उपवास करें। रात में चन्द्रमा को देखकर पति की आरती के बाद व्रत खोला जाता है। पूजा को सही तरीके से करें और फिर पानी पीकर उपवास खोलें। उपवास के बाद ज्यादा या तैलीय चीजों का सेवन न करके हल्का और पौष्टिक आहार व पेयजल पर्याप्त मात्रा में लें सकते हैं।

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।