Home खेत-किसान किसान मायूस, लॉकडाउन की मार, सब्जी उत्पादक खुद ही नष्‍ट कर रहे फसल

किसान मायूस, लॉकडाउन की मार, सब्जी उत्पादक खुद ही नष्‍ट कर रहे फसल

किसान परेशान हैं। सब्जियों के दामों की तरह भावांतर भरपाई योजना भी औंधे मुंह गिर चुकी है। किसान योजना में निर्धारित किए गए सब्जियों के भाव से कम रेट पर अपनी सब्जी की उपज बेच रहे हैं तो कई किसान अपनी फसल नष्ट करने को मजबूर हैं। किसानों का आरोप है कि यह योजना सिर्फ कागजों तक सीमित है और उन्हें इसका कोई लाभ नहीं मिल रहा।

वहीं लॉकडाउन की मार से सब्जियों की डिमांड और भाव गिर चुके हैं, मंदी की मार झेल रहे किसान अपनी सब्जियों की फसलों को नष्ट करने लगे हैं। किसानों का कहना है कि मंडी में फसल बेचने के बाद सब्जी की तुड़ाई और मंडी ले जाने खर्च भी पूरा नहीं होता, इसलिए सब्जियों को खेत में बर्बाद करना उनकी मज़बूरी बन गई है।

कोरोना महामारी के कारण देश भर में चल रहे लॉकडाउन ने सब्जी उत्पादक किसानों की कमर तोड़ दी है। किसानों के लिए पैदा हुए विकट हालतों में सरकार की योजना नुकसान की भरपाई नहीं कर रही। खेतों में टमाटर, फूल गोभी, खीरा, धनिया, करेला व अन्य सब्जियों की अच्छी फसल होने के बावजूद किसान अपनी सब्जी की फसल को नष्ट कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिल दहला देने वाला मामला: चार माह के मासूम को पिलाया तेजाब, जानिए वजह

Aapni News, Panipat पानीपत में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। चार माह के एक मासूम …