Home न्यूज़ एक्सीडेंट FREE FIRE गेम ने ली 5 वीं कक्षा के बच्चे की जान, फांसी लगाकर की आत्महत्या

FREE FIRE गेम ने ली 5 वीं कक्षा के बच्चे की जान, फांसी लगाकर की आत्महत्या

0

Aapni News, Bhopal

वीडियो गेम्स के चलते अनेक दुष्प्रभाव सामने आ रहे है और इसी के चलते छोट-छोट बच्चे आत्महत्या कर रहे हैं। एक ऐसा ही मामला सामने आया है मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से। जहां पर पांचवी कक्षा में पढने वाले छात्र ने आत्महत्या कर ली। मौत के बाद परिजन सदमे में है।

बच्चा मोबाइल में फ्री फायर गेम (Free Fire Game) खेलने का शौकीन था। पेरेंट्स ने पुलिस को बताया कि मोबाइल के अलावा टीवी में भी वो गेम खेलता था। गेम का बेटे पर इस कदर जुनून सवार था कि उसने गेम फाइटर की ड्रेस भी खुद ही ऑनलाइन मंगाई थी। पुलिस (MP Police) को मौके से किसी तरह कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। शंकराचार्य नगर बजरिया में रहने वाले योगेश ओझा ऑप्टिकल की दुकान चलाते हैं।

यह भी पढेंः चिट्टे से खत्म होते रिश्ते: सप्लायर ने पत्नी को ही बना दिया चिट्टे का आदी, ओवरडोज से मौत

सुर्यांश उनका 11 साल का इकलौता बेटा था। सूर्यांश सेंट जेवियर स्कूल अवधपुरी में पांचवीं क्लास में पड़ता था। बुधवार दोपहर वो अपने चचेरे भाई आयुष के साथ दूसरी मंजिल के कमरे में बैठकर टीवी में फिल्म देख रहा था। इसी बीच, आयुष किसी काम से नीचे आ गया। थोड़ी देर बाद जब चाचा के बच्चे खेलने के लिए तीसरी मंजिल की छत पर पहुंचे तो देखा वहां, बॉक्सिंग रिंग में रस्सी के फंदे पर सूर्यांश लटका हुआ था।

जब बच्चों ने सूर्यांश को लटका देखा तो उन्होंने फौरन परिजनों को बताया। परिवार के लोग उसी समय सुर्यांश को प्राइवेट अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले उसकी मौत हो चुकी थी। डॉक्टर ने चेक करते ही बच्चे को मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढेंः जीएसटी सर्टिफिकेट के नाम पर डीईटीसी ₹50000 की रिश्वत लेते विजिलेंस टीम ने किया गिरफ्तार

सुर्यांश के पिता योगेश ने पुलिस को बताया कि बच्चा मोबाइल में फ्री फायर गेम खेलता था। इसके अलावा जब कभी टीवी देखता था, वह गेम वाले सीरियल ही देखता था। ज्यादातर समय वो गेम में ही लगाता था। पिता ने कहा कि हम सब उसे गेम खेलने के लिए मना भी करते थे। पर वो किसी की बात सुनता नहीं था। पुलिस सूर्यांश के मोबाइल की भी जांच करेगी। जिससे यह पता चले कि कहीं उसे गेम में टारगेट तो नहीं दिया गया। योगेश के तीन भाई हैं। सभी ज्वाइंट फैमिली में रहते हैं।

यह भी पढेंः तांत्रिक विद्या के जाल में फंसा युवक, फांसी लगाकर दी जान

3 महीने पहले भी की थी सुसाइड की कोशिश

पुलिस के मुताबिक करीब 3 महीने पहले भी सूर्यांश ने सुसाइड का प्रयास किया था. वह फांसी लगाने की तैयारी कर रहा था, इससे पहले मां पहुंच गई. उन्होंने उसे बचा लिया. इस पर मां ने उसे फटकार भी लगाई थी. ज्यादातर सुर्यांश गेम खेलने के लिए अपने दादा का ही मोबाइल लेता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नरमा के भाव में तेजी, जानिए नरमा, ग्वार, बाजरा, सरसों, मोठ के भाव में तेजी मंदी की रिपोर्ट

Aapni News, New Delhi हरियाणा की अनाज मंडियों में आज के भाव ऐलनाबाद अनाज मंडी बोली भाव दिन…