IAS Success Story: जानें कौन हैं आईएएस पी नरहरि? जिनके द्वारा पढ़ाए गए 400 स्टूडेंट भी बन गए टॉप के सरकारी अफसर

पी नरहरि 2001 बैच के आईएएस अफसर भी हैं. आईएएस पी नरहरि का जन्म 1 मार्च सन् 1975 को तेलंगाना के बसंतनगर गांव में हुआ था.
  
IAS Narhari

Aapni News, Success Story

Who is IAS P Narhari:कहते हैं कि पढ़ाई को जितना भी बांटते हैं वो उतनी ही बढ़ती भी जाती है. हम बार कर रहे हैं आईएएस अफसर परिकिपंडला नरहरि (पी नरहरि) की. जो खुद तो एक आईएएस अफसर भी हैं ही उनके पढ़ाए हुए भी 400 से ज्यादा स्टूडेंट्स टॉप के सरकारी अफसर भी बन गए हैं. पढ़ाई की कीमत वही समझता है जो सीमित संसाधनों में पढ़कर कुछ बनता है.

Also Read: UGC Order: अब कॉलेज में अनिवार्य हुई साइबर सुरक्षा की पढ़ाई, देखिये पाठ्यक्रम

पी नरहरि 2001 बैच के आईएएस अफसर भी हैं. आईएएस पी नरहरि का जन्म 1 मार्च सन् 1975 को तेलंगाना के बसंतनगर गांव में हुआ था. वह इनके पिता एक दर्जी काम करते थे. घर पर कमाई के सीमित संसाधन भी बने थे. आर्थिक स्थिति में मजबूत नहीं थी. जो मध्य प्रदेश में लागू होने वाली लाडली लक्ष्मी योजना की पूरी कहानी इन्हीं ने लिखा थी. इन्हीं को इंदौर को क्लीन सिटी बनाने का क्रेडिट भी जाता है.

Also Read: औरत के मामले में बड़बिराना गांव के युवक को नग्न करके बेरहमी से पीटा, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

पी नरहरि को पीपल्स ऑफिसर भी कहा जाता है. वह सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वालों को मोटिवेट भी करते हैं और तैयारी में भी हेल्प भी करते हैं. वह एक सिविल सेवक ही नहीं एक सिंगर और लेखक भी हैं. उन्हें साल 2017 में देश के 10 सबसे पॉपुलर आईएएस अधिकारियों में भी शामिल भी किया गया था.

Also Read: जानें कैसे बनते हैं एसडीएम और क्या होती है इनकी पावर

इसलिए कोई आश्चर्य नहीं कि इसने उन्हें उनका स्टार और हीरो भी बना दिया है. यूपीएससी टॉपर प्रदीप सिंह ने सार्वजनिक रूप से यह कहा जाता है कि उन्होंने नरहरि के काम से प्रेरित होने के बाद सिविल सेवाओं में आने का भी फैसला किया. इसके करियर की बात करियर की बात करें तो वह 2001 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुए.

Also Read - GATE 2023 का आयोजन 4, 5, 11 और 12 फरवरी को, जानें 5 जरूरी टिप्स और ट्रिक्स

साल 2002 में वे छिंदवाड़ा में सहायक कलेक्टर के पद पर तैनात थे. वे साल 2003 में ग्वालियर में एसडीओ (राजस्व) और एसडीएम डबरा, 2004 में इंदौर में एसडीओ (राजस्व) और एसडीएम मह के साथ सहायक कलेक्टर और सिटी मजिस्ट्रेट, मुरार बने उन्हें 2005 में इंदौर नगर निगम के नगर आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया था.

Also Read: यहां स्कूलों में शुरू हुआ जाति प्रमाण पत्र बनने, विद्यार्थियों में भारी उत्साह

साल 2006, वे परियोजना निदेशक आईसीडीएस और आईएफएल प्रबंध निदेशक डब्ल्यूएफडीसी और महिला एवं बाल विकास विभाग, भोपाल में पदेन उप सचिव बने. अप्रैल 2007 में उनका तबादला छिंदवाड़ा जिला परिषद के मुख्य कार्यपालक अधिकारी और पदेन अपर कलेक्टर (विकास) के पद पर हुआ. 9 अगस्त 2007 को, वे जिला मजिस्ट्रेट और सिवनी के कलेक्टर बने, बाद में 2009 में सिगरौली के डीएम और कलेक्टर के रूप में, फिर 2011 में ग्वालियर के डीएम और कलेक्टर रहे और 2015 में इंदौर के डीएम और कलेक्टर के रूप में और 2017 तक सेवा की.

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।