UPSC Exam में बार-बार हुए फेल, इंटरव्यू से ठीक पहले पिता को खोया; फिर भी बने IAS ऑफिसर

यूपीएससी परीक्षा के लिए अटेम्प्ट भी दिया. वह इससे पहले दो बार यूपीएससी सिविल सर्विसेज इंटरव्यू राउंड में भी पहुंचे थे.
  
Jaspal kumar

Aapni News, Success Story
राजदीप लुधियाना के जमालपुर के एक सिविल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्यरत थे. कई उम्मीदवारों की तरह से उनके लिए भी आ बनने का सफर आसान नहीं था. इंटरव्यू से ठीक पहले उन्होंने अपने पिता को भी खो दिया था.

​Rajdeep Ka Photo [Click and drag to move] ​

Also Read: UPSC Success Story: वेटर, सेल्समैन से लेकर फायरमैन और फिर बना आईएएस ऑफिसर; जानें आशीष दास की IAS ऑफिसर बनने की पूरी कहानी

यह 5वीं बार था जब डॉ राजदीप सिंह खैरा ने यूपीएससी परीक्षा के लिए अटेम्प्ट भी दिया. वह इससे पहले दो बार यूपीएससी सिविल सर्विसेज इंटरव्यू राउंड में भी पहुंचे थे. इस सफलता के बाद उन्होंने यह भी कहा कि ’लक्ष्य प्राप्त करने से पहले कभी मत छोड़ना कोई विकल्प भी नहीं होता. हम सभी का कभी न खत्म होने वाला रवैया भी होना चाहिए. मैं कई बार असफल हुआ लेकिन तब तक प्रयास भी करता रहा जब तक कि मैं सफल नहीं हो गया.

​Rajdeep Ka Photo [Click and drag to move] ​

Also Read: UPSC Success Story: दीवारों पर इंग्लिश के शब्दों के अर्थ लिखकर सीखी अंग्रेजी, जानें सुरभि गौतम की आईएएस बनने की कहानी

मई 2021 में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान भी राजदीप के पिता की मृत्यु हो गई और वह सितंबर 2021 में यूपीएसी सिविल सेवा आयोग इंटरव्यू के लिए उपस्थित हुए. उन्होंने चार बार पहले भी परीक्षा उत्तीर्ण की और दो बार साक्षात्कार के दौर में पहुंचे लेकिन सफलता उनसे एक कदम दूर थी. इस बार उन्होंने तमाम मुश्किलों का सामना भी किया और पूरी तैयारी के साथ इंटरव्यू देने के लिए दौड़ पड़े. उनकी लगन और मेहनत भी रंग लाई.

​Rajdeep Ka Photo [Click and drag to move] ​

Also Read:  UPSC Success Story:मां हाऊस वाईफ, पिता सरकारी टीचर, भ्रष्टाचार से हुआ प्रोफेसर बेटी Neha Yadav का सामना तो बनी IPS ऑफिसर

उनका यह मानना है कि लोगों को अपनी जीत से ज्यादा भी अपनी हार को स्वीकार करना चाहिए. कभी-कभी निराशा, व्याकुलता, गलतियां भी होंगी, लेकिन यदि आप इन चुनौतियों से पार पाते हैं, तो आप खुद को सफलता के बहुत करीब पाएंगे. लुधियाना के डॉ. राजदीप सिंह खैरा का यह कहना है कि लक्ष्य की ओर बढ़ते कदम धैर्य का अत्यधिक महत्व है. वह सोशल मीडिया का भी उपयोग भी नहीं करते थे क्योंकि इससे बहुत अधिक ध्यान भटकता है.

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।