UPSC Success Story: 12वीं क्लास में फेल हुए स्टूडेंट को गर्लफ्रेंड ने ऐसे किया यूपीएससी टॉपर बनने के लिए इंस्पायर

मनोज शर्मा का जन्म मध्य प्रदेश के मुरैना गांव में हुआ था. उनका जन्म एक लोअर मिडिल क्लास फैमिली में हुआ था जहां वे केवल अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कमा सकते थे.
  
IPS Manoj Sharma

Aapni News, Success Story

UPSC Success Story: कहते हैं कि कहर कामयाब महिला के पीछे किसी पुरुष का हाथ भी होता है लेकिन यहां मामला उलटा हो गया है यहां कामयाब इंसान के पीछे उनकी गर्लफ्रेंड का हाथ लगा हुआ है. इसकी लव स्टोरी सबसे स्ट्रॉन्ग फीलिंग है और यह अब तक का सबसे पावरफुल हथियार भी है. यह इंसान को बनाने और बिगाड़ने की ताकत भी रखता है, लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि कभी-कभी प्यार लोगों को प्रशासनिक अधिकारी भी बना देता है.

Also Read: IAS Swati Meena Success Story: मां चलाती थी पेट्रोल पंप, बेटी स्वाति मीणा UPSC एग्जाम पास करके बनी आईएसस ऑफिसर

कहानी आईपीएस मनोज शर्मा और उनकी गर्लफ्रेंड और अब पत्नी श्रद्धा शर्मा के लिए उनके प्यार की है, जिसने उन्हें यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के लिए प्रेरित भी किया. यह वह आईपीएस ऑफिसर बने और अच्छे अंको के साथ एग्जाम को पास किया. IPS मनोज शर्मा की सफलता की सबसे दिलचस्प कहानियों में से एक है.

Also Read: UPSC Success Story: मनरेगा मजदूर मां-बाप की बेटी दोस्तों से पैसे उधार लेकर बनी आईएएस, जानें सफलता की कहानी

मनोज शर्मा का जन्म मध्य प्रदेश के मुरैना गांव में हुआ था. उनका जन्म एक लोअर मिडिल क्लास फैमिली में हुआ था जहां वे केवल अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कमा सकते थे. उनके पिता का नाम रामवीर शर्मा है और उनके एक भाई और एक बहन भी हैं. मनोज शर्मा बचपन से ही एसडीएम बनने का सपना देख रहे थे क्योंकि वह जानते थे कि प्रशासनिक अधिकारी ऐसे ही होते हैं. जो हालांकि, उन्हें कक्षा 9वीं और 10वीं में थर्ड डिवीजन हासिल की थी इससे उन्हें एहसास हुआ कि वह इतने अच्छे स्टूडेंट नहीं. जो कि मनोज को तब और भी बुरा लगा जब वह 12वीं बोर्ड परीक्षा में हिंदी को छोड़कर सभी सब्जेक्ट में फेल हो गए. तो यह सबसे खराब स्थिति थी. जिसका यूपीएससी सिविल सेवा के किसी भी उम्मीदवार को सामना करना पड़ सकता था.

Also Read: UPSC Success Story: 8-10 घंटे तक पढ़ाई करके सिमी करण ऐसे बनीं आईएएस ऑफिसर

इसके बाद मनोज शर्मा ने खुद को समेटा और ग्वालियर में रोजी-रोटी के लिए ऑटो रिक्शा चलाने भी लगे. यह वह समय था जब उन्होंने 12वीं कक्षा के लिए अच्छी पढ़ाई की. उन्होंने अभी भी किसी दिन सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने की उम्मीद को नहीं छोड़ी थी. मनोज शर्मा ने ग्वालियर के महारानी लक्ष्मीबाई गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की.

Also Read: IAS Success Story: हिंदी मीडियम में पढ़ाई कर मिडल क्लास परिवार की बेटी प्रीति हुड्डा ने जानें आईएएस बन कैसे किया पिता के सपने को साकार

उन्होंने अपनी किताब ट्वेल्थ फेल में एक ऑटोरिक्शा चालक के रूप में अपने जीवन की अनेक घटनाएं को भी लिखी हैं. मनोज शर्मा पर अपने परिवार को भी सहारा देने का काफी दबाव भी बना हुआ था. उनके घर में छत तक नहीं थी. यह कल्पना करना कठिन है कि ऐसी परिस्थितियों में कोई व्यक्ति एक दिन प्रशासनिक अधिकारी बनने का सपना कैसे देख सकता है. अपनी तैयारी के दिनों में, वह भिखारियों के साथ, मंदिरों में भी सोते थे, और अपना गुजारा करने के लिए लोगों के कुत्तों को टहलाते रहते थे.

Also Read: IAS Success Story: एमबीबीएस व पोस्ट-ग्रेजुएशन प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाला 23 साल का धवल पटेल जानें कैसे बना आईएएस

मनोज शर्मा ने अपने पास सीमित संसाधनों से तैयारी भी की थी. श्रद्धा चाहती थीं कि वे यूपीएससी सीएसई पास करें जो उनकी तैयारी के काफी वर्षो के दौरान उनकी एकमात्र प्रेरणा थी. मनोज शर्मा पहले तीन अटेंप्ट में सफल भी नहीं हो सके लेकिन श्रद्धा ने उन्हें प्रेरित और दृढ़ संकल्पित रखा. आखिर में अपने चौथे अटेंप्ट में 2005 में सिविल सेवा परीक्षा पास की और आईपीएस अधिकारी बन गए. मनोज शर्मा और श्रद्धा जोशी शर्मा आज के युवाओं के लिए प्रेरणा हैं. अगर आप सपने देखने की हिम्मत कर सकते हैं तो आप हासिल कर सकते हैं.

Also Read: इंटरव्यू से ठीक पहले पिता को खोने के बाद भी किया यूपीएससी क्रैक, मिलें IAS डॉ. राजदीप सिंह खैरा से

Also Read: IAS Swati Meena Success Story: मां चलाती थी पेट्रोल पंप, बेटी स्वाति मीणा UPSC एग्जाम पास करके बनी आईएसस ऑफिसर

Also Read: UPSC Success Story: किसान के बेटे ने 3 बार की यूपीएससी की परीक्षा पास, पढ़िये सफलता की कहानी

Also Read:  IAS Success Story: एमबीबीएस व पोस्ट-ग्रेजुएशन प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाला 23 साल का धवल पटेल जानें कैसे बना आईएएस

Also Read: UPSC Success Story: बचपन में पिता की बात को गांठ बांधकर पढ़ी और बन गई आईपीएस, जानें सफलता की कहानी

Also Read: IPS Success Story: जितना सुंदर काम उससे कहीं ज्यादा सुंदर लुक्स के कारण चर्चा में है आईपीएस नवजोत सिमी, देखें खूबसूरत तस्वीरें भी

Also Read: IAS Success Story: विदेश की 1 करोड़ की नौकरी छोड़ पहले प्रयास में UPSC 2018 के टॉपर कनिष्क कटारिया की जानें सफलता की कहानी

Also Read: IAS Success Story: UPSC में 18वीं रैंक लेने वाली राधिका गुप्ता की सफलता की कहानी, जानें उनकी विषयवार तैयारी की रणनीति

Also Read: UPSC Success Story: सबसे कम उम्र के DIG की कहानी जो कर चुके हैं बिग बॉस के ऑफर को भी रिजेक्ट

Also Read: UPSC Success Story: 4 बार फेल होने के बाद भी नहीं मानी हार, पांचवीं बार में यूपीएससी परीक्षा पास करने वाले कृष्ण कुमार से जानें उनकी सफलता का राज

Also Read: UPSC Success Story: किसान की बेटी सेल्फ स्टडी के आधार पर बनी आईएएस, जानें उनकी सफलता का राज

Also Read: UPSC Success Story: बिना कोचिंग पहले ही प्रयास में पास की किसान की बेटी ने UPSC परीक्षा, ऐसे करती थी पढ़ाई

Also Read: UPSC CSE Result 2021:सिविल सेवा परीक्षा में प्रयागराज के अतुलेश ने पांचवें प्रयास में पाई सफलता

Also Read: UPSC Success Story: मॉडलिंग के बाद सिविल सर्विस में बजाया डंका, ऐसे बनी राजस्थान की ऐश्वर्या श्योराण IAS

Also Read: इस राज्य में काम करना चाहती हैं UPSC टॉपर श्रुति शर्मा, एग्जाम की तैयारी के लिए बताए खास टिप्स

Also Read: IAS Suceess Story: पढ़ाई छोड़ने के 10 साल व शादी के 5 साल बाद हरियाणा की इस जाटनी ने किया आईएएस में टॉप, जानिये अनु कुमारी की सफलता की कहानी

Also Read: UPSC Success Story: DTC बच चालक पिता को बेटी प्रीति हुड्डा ने कॉल करके कहा- पापा मैं IAS बन गई, तब पिता से मिला ये जवाब

Also Read : सुमित शाह की प्रेरक कहानी, एक इंटरनेट मार्केटियर से एंटरप्रेन्योर का सफर

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।