चंडीगढ़: खिलाड़ियों के शोषण पर सरकार की चुप्पी निंदनीय: कुमारी सैलजा

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा ने कहा कि देश का नाम रोशन करने वाली खिलाड़ियों के शोषण के मामले सामने आने के बाद भी केंद्र व हरियाणा सरकार आरोपियों को बचाने में लगी हुई है।
  
Politics

Aapni News, Politics

चंडीगढ़, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा ने कहा कि देश का नाम रोशन करने वाली खिलाड़ियों के शोषण के मामले सामने आने के बाद भी केंद्र व हरियाणा सरकार आरोपियों को बचाने में लगी हुई है। कुश्ती संघ के अध्यक्ष पर पहलवानों ने जिस तरह के आरोप लगाए हैं, उन्हें देखते हुए कुश्ती संघ के अध्यक्ष पर तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। 

मीडिया को जारी बयान में कुमारी सैलजा ने कहा कि जिस तरह के आरोप हरियाणा की बेटियों व देश की ख्याति प्राप्त पहलवानों ने कुश्ती संघ के अध्यक्ष व भाजपा सांसद बृज भूषण शरण सिंह पर लगाए हैं, उसने हर किसी संवेदनशील को अंदर तक हिला दिया है। महिला पहलवान देश का नाम रोशन करने के लिए कड़ा संघर्ष करती हैं और कोच उन्हें टारगेट करके अगर भाजपा सांसद तक पहुंचाते हैं तो फिर कोई भी माता-पिता अपने बच्चों को खेलों में भेजने की कभी सोचेगा भी नहीं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस पूरे मामले की गहराई से जांच होनी चाहिए और तब तक तमाम पीड़ित महिला पहलवानों को केंद्रीय बलों की सुरक्षा मिलनी चाहिए क्योंकि शोषण के आरोपों की वजह से उन्हें जान का खतरा पैदा हो सकता है। इस मामले पर प्रदेश के भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार की चुप्पी भी हैरान करने वाली है। इससे पता चलता है कि उन्हें प्रदेश की बेटियों की सुरक्षा की कोई चिंता ही नहीं है।

कुमारी सैलजा ने कहा कि इससे पहले प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार महिला जूनियर कोच व एथलीट के आरोपों पर कार्रवाई से बचती रही है। चंडीगढ़ पुलिस द्वारा छेड़छाड़ का मामला दर्ज करने के बावजूद आज तक आरोपी राज्य मंत्री को न तो गिरफ्तार किया गया और न ही प्रदेश सरकार से उन्हें बर्खास्त किया गया। इसके विपरीत गठबंधन सरकार अपने राज्य मंत्री को लगातार क्लीन चिट देने की हर संभव कोशिश कर रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री बोलीं कि हरियाणा की जिस धरती से देश के प्रधानमंत्री ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा दिया था, आज वहां की बेटियां अपने साथ घटी घटनाओं को लेकर न्याय पाने के लिए संघर्ष कर रही हैं, अपनी आवाज भाजपा और प्रधानमंत्री तक पहुंचाने का प्रयास कर रही हैं। लेकिन न तो भाजपा का कोई नेता कुछ बोल पा रहा है और न ही प्रधानमंत्री किसी ठोस कार्रवाई का आश्वासन दे रहे हैं। इससे पता चलता है कि भाजपा की कथनी और करनी में कितना अंतर है। वरना, अब तक भाजपा सांसद और आरोपी राज्य मंत्री पर कार्रवाई हो चुकी होती।

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।