बिहार: ट्रेन के शौचालय में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, ट्रांसजेंडरों ने की मदद

खबरों के मुताबिक, महिला अपने पति के साथ बिहार के जमुई पहुंचने के लिए हावड़ा-पटना जनशताब्दी एक्सप्रेस में सवार हुई। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि जैसे ही ट्रेन जसीडीह स्टेशन से रवाना हुई, उसे प्रसव पीड़ा हुई
  
General News

Bihar

बिहार: ट्रांसजेंडरों के एक समूह ने ट्रेन यात्रा के दौरान प्रसव पीड़ा से कराहती एक महिला यात्री का न केवल दिल जीत लिया, बल्कि उसे सुरक्षित बच्चे को जन्म देने में भी मदद की। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि मां और उसका बच्चा दोनों सुरक्षित हैं।

खबरों के मुताबिक, महिला अपने पति के साथ बिहार के जमुई पहुंचने के लिए हावड़ा-पटना जनशताब्दी एक्सप्रेस में सवार हुई। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि जैसे ही ट्रेन जसीडीह स्टेशन से रवाना हुई, उसे प्रसव पीड़ा हुई।

जैसे ही वह दर्द से कराह उठी, उसके चिंतित पति ने कोच में यात्रा कर रही अन्य महिलाओं से सहायता मांगी, लेकिन कोई भी आगे नहीं आया। यहां तक कि उसकी हालत बिगड़ने लगी, उसके बाद ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों का एक समूह यात्रियों से पैसे मांगने के लिए ट्रेन के डिब्बे में आया, लेकिन महिला के रोने की आवाज सुनकर वे उसकी मदद के लिए दौड़ पड़े। 

ट्रांसजेंडर बिना एक पल गंवाए महिला को ट्रेन के वॉशरूम में ले गए और बच्चे को सुरक्षित जन्म देने के लिए उसकी मदद की। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्होंने बच्चे को आशीर्वाद दिया और आवश्यकता पड़ने पर उसके पति को आर्थिक मदद की पेशकश की, जिसे उसने विनम्रता से मना कर दिया।

एक ट्रांसजेंडर व्यक्ति ने कहा, "वह (महिला यात्री) प्रसव पीड़ा से बेचैन थी, लेकिन किसी महिला यात्री ने उसकी कोई मदद नहीं की। कुछ लोग उसे देखने आए, लेकिन जल्द ही अपनी सीटों पर वापस चले गए। हम उसे बाथरूम ले गए और बच्चे को जन्म देने में मदद की।"  

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।