Free Ration Scheme: फ्री राशन के नियमों में हो रहा हैं बड़ा बदलाव, करोड़ों कार्डधारकों को नहीं मिलेगा राशन, जानें क्या हैं वजह

जिसका असर यूपी-दिल्ली समेत कई राज्यों के फ्री राशनकार्ड धारकों पर होगा असर.
  
Free Rasion Card

Aapni News, New Delhi

Free Ration Rules Changed: फ्री राशन कार्ड के नियमों में समय-समय पर बदलाव भी किया जा रहा है. अगर आप भी फ्री राशन कार्ड वाली सुविधा का फायदा भी ले रहे हैं तो अब इसमें बड़ा बदलाव भी हो गया है, जिसका असर यूपी-दिल्ली समेत कई राज्यों के फ्री राशनकार्ड धारकों पर होगा. बता दें कई राज्यों में फ्री राशन स्कीम के तहत गेहूं न देने की बात भी कही गई है यानी कि अब आपको फ्री राशन स्कीम के तहत गेहूं मिलना भी थोड़ा मुश्किल हो सकता है.

Also Read: अब ड्राइविंग लाइसेंस के लिए नहीं देना होगा टेस्ट!, इन कागजात के साथ घर बैठे ही हो जाएगा काम

जानें क्या हुआ है बदलाव?
सरकार की तरफ से किए गए इस बदलाव के पीछे मुख्य वजह गेहूं की कमी होना है. और राज्य सरकारों ने यह भी कहा है कि फ्री राशन कार्डधारकों को गेहूं की जगह पर चावल का वितरण किया जाएगा. पीएमजीकेएवाई योजना के तहत गेहूं की जगह पर चावल का वितरण भी किया जाएगा.

Also Read: हरियाणा सरकार का मछली पालकों को बड़ा तोहफा, अब एडवांस में मिलेगी सब्सिडी

जानें क्यों लिया गया है यह निर्णय?
इसके अलावा कई राज्यों में राशनकार्डधारकों को गेहूं पहले की तुलना में कम दिया जाएगा और उसकी जगह पर चावल का वितरण भी किया जाएगा. गरीब कल्याण अन्य योजना के तहत पात्र फ्री राशनकार्डधारकों को गेहूं और चावल भी दिया जाता है, लेकिन इस समय देश में गेहूं की कमी होने की वजह से कई राज्य सरकारों की तरफ से यह फैसला लिया गया है.

Also Read: Goat Farming Loan 2022: बकरी पालन के लिए सरकार दे रही है लोन, जानें कैसे करें आवेदन

जानें किस राज्य के लाभार्थियों को नहीं मिलेगा गेहूं?
फ्री राशन कार्डधारकों को उत्तर प्रदेश, केरल और बिहार राज्यों के फ्री राशन कार्डधारकों को गेहूं का वितरण नहीं दिया जाएगा. इसके अलावा उत्तराखंड, गुजरात, झारखंड, दिल्ली, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल के कार्डधारकों को पहले की तुलना में कम गेहूं भी मिलेगा.

Also Read: सोलर पैनल घर की छत पर लगवाने में कितना आएगा खर्च? फ्री बिजली पाने का ये रहा पूरा हिसाब

55 लाख मीट्रिक टन ज्यादा चावल का होगा वितरण
आपको बता दें इन सभी राज्यों के कार्डधारकों को गेहूं की जगह पर ज्यादा चावल का वितरण भी किया जाएगा. इसके अलावा अन्य राज्यों में किसी भी तरह का परिवर्तन नहीं किया गया है. देश में गेहूं की खरीद कम होने की वजह से यह निर्णय लिया गया है. इस फैसले के बाद करीब 55 लाख मीट्रिक टन ज्यादा चावल का वितरण होगा.

 

Text Example

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapninews.in द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapninews.in पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।