Home राजस्थान वर्षों जिसने की चौ. देवी लाल की सेवा, अब था गुमनामी में, ओपी चौटाला ने ढूंढ निकाला, कोठी में दी शरण

वर्षों जिसने की चौ. देवी लाल की सेवा, अब था गुमनामी में, ओपी चौटाला ने ढूंढ निकाला, कोठी में दी शरण

 हरियाणा के पांच बार मुख्यमंत्री रहे इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला के बारे में एक बात मशहूर है कि वह अपने छोटे से छोटे और पुराने से पुराने कार्यकर्ता का नाम नहीं भूलते। किसी भी जनसभा या कार्यक्रम में अपने समर्पित कार्यकर्ता को नाम लेकर बुलाना और अफसरों के सामने भरी भीड़ में कार्यकर्ता को बुलाकर परिवार की कुशलक्षेम पूछना चौटाला की विशेषता है।

अब चौटाला करीब 85 साल के हो गए हैं, लेकिन अब भी न केवल नियमित रूप से सैर करते हैं, बल्कि खाली समय में अखबार भी पढ़ते हैं। टीवी देखते हैं। चौटाला आजकल अपने सिरसा स्थित फार्म हाउस पर आराम कर रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने सिर पर काला कपड़ा डालकर तीन कृषि कानूनों पर अपना विरोध जताया। हाल ही में उनसे जुड़ी एक नई बात सामने आई है, जो उनके राजनीतिक व सामाजिक व्यक्तित्व को अधिक प्रभावशाली बना देती है।

ओमप्रकाश चौटाला को कहीं से सूचना मिली की उनके पिता पूर्व उप प्रधानमंत्री स्व. देवीलाल के सेवादार रहे भीम सिंह राजस्थान में एक धर्मशाला में गुमनामी में रह रहे हैं। भीम सिंह ने अपनी पुलिस की नौकरी छोड़कर पीएसओ के तौर पर देवीलाल की सेवा की थी। लोग उन्हें भीम ताऊ के नाम से बुलाते थे। भीम ताऊ कई सालों से गुमनामी की जिंदगी व्यतीत कर रहे थे।

ओमप्रकाश चौटाला को जब पता चला कि राजस्थान के बीकानेर जिले के गांव खाजवाला निवासी भीम सिंह एक धर्मशाला में गुमनामी में रह रहे हैं तो उन्होंने अपने पोते करण सिंह चौटाला को बुलाकर भीम सिंह को अपने फार्म हाउस पर लेकर आने को कहा। भीम ताऊ जैसे ही चौटाला के तेजाखेड़ा निवास (फार्म हाउस) पर पहुंचे तो चौटाला ने उन्हें गले लगा लिया और कहा कि अब यही तुम्हारा घर है और तुम आज से यहीं मेरे साथ रहोगे।

बड़े चौटाला ने अपने बेटे अभय सिंह को भीम ताऊ के तमाम इंतजाम और दवाई का बंदोबस्त करने को कहा। भीम ताऊ के लिए कोठी में कमरा और एक सेवादार दे दिया गया। भीम ताऊ गदगद हो गए और उनकी आंखें नम हो गई। चौटाला ने कहा कि जिसने मेरे पिताजी की बरसों तक सेवा की हो, मैं उसे कैसे भूल सकता हूं। पास खड़े पोते करण चौटाला ने ताऊ की तरफ इशारा करते हुए कहा कि हमें अपने दादा से यही संस्कार मिले हैं कि अपने वफादारों का आखिरी सांस तक भी साथ नहीं छोड़ते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिल दहला देने वाला मामला: चार माह के मासूम को पिलाया तेजाब, जानिए वजह

Aapni News, Panipat पानीपत में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। चार माह के एक मासूम …