Panchmukhi Hanuman Avtar Story: मंगलवार के दिन कैसे करनी चाहिए पंचमुखी हनुमान की पूजा, जानिए बजरंगबली के इस अवतार की कहानी. - Aapni News

Panchmukhi Hanuman Avtar Story: मंगलवार के दिन कैसे करनी चाहिए पंचमुखी हनुमान की पूजा, जानिए बजरंगबली के इस अवतार की कहानी.

Rajbala Poonia
4 Min Read
Panchmukhi Hanuman Avtar Story

Panchmukhi Hanuman Avtar Story:   हनुमान जी को संकटमोचक भी कहा जाता है। भगवान हनुमान अपने भक्तों को संकटों से बचाकर उन पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं। अगर आप किसी परेशानी में हैं और आपको इससे निकलने का कोई रास्ता नहीं मिल रहा है तो सच्चे मन से हनुमान जी को याद करें और उनसे प्रार्थना करें, यकीन मानिए आपकी परेशानियों में कुछ कमी जरूर होगी। खासतौर पर अगर आप मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करते हैं तो आपकी सभी परेशानियां और परेशानियां जल्द ही खत्म हो जाएंगी। आपने ऐसी कई कहानियां सुनी होंगी लेकिन क्या आप जानते हैं कि भगवान श्री राम और लक्ष्मण को संकट से बचाने के लिए हनुमान जी ने पंचमुखी हनुमान का अवतार लिया था? आइए हम आपको बताते हैं वह कथा लेकिन उससे पहले जानिए मंगलवार के दिन पंचमुखी हनुमान जी की पूजा कैसे करनी चाहिए-

Also Read: PM Samman Nidhi Yojana:पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाने के लिए रखें इन बातों का खास ध्यान

Panchmukhi Hanuman Avtar Story:   पंचमुखी हनुमान जी की पूजा विधि

पंचमुखी हनुमान जी की पूजा करने से पहले उनकी मूर्ति या तस्वीर को सही दिशा में रखना याद रखें। पंचमुखी हनुमान जी की मूर्ति हमेशा दक्षिण दिशा में रखें, इससे घर में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी और आपके जीवन में जो भी परेशानियां हैं, वह भी धीरे-धीरे खत्म हो जाएंगी। पंचमुखी हनुमान जी की पूजा के लिए मंगलवार का दिन विशेष होता है। इस दिन अगर आप पंचमुखी हनुमान अवतार की पूजा करते हैं तो आपको बजरंगबली की विशेष कृपा प्राप्त होती है। पूजा के लिए प्रसाद के रूप में सिन्दूर, लाल या पीले फूल, चमेली का तेल और बूंदी रखें। इसके अलावा आप हनुमान बाबा को गुड़ और चने का भोग भी लगा सकते हैं. साथ ही पंचमुखी हनुमान का ध्यान करते समय सुंदरकांड और हनुमान चालीसा का पाठ जरूर करें।

Panchmukhi Hanuman Avtar Story:   जब पंचमुखी हनुमान ने अवतार लेकर श्रीराम को संकट से बचाया था।

Also Read: RBI: अब बैंक लॉकर जितना सुरक्षित होगा ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, आइए जानें कैसे?

हनुमान जी श्री राम के बहुत बड़े भक्त थे। ये तो हम सब जानते हैं. इसके अलावा उनका श्री राम से भी बहुत स्नेह था। इसी प्रेम और भक्ति के कारण श्री राम और लक्ष्मण को बचाने के लिए हनुमान जी ने पंचमुखी हनुमान का अवतार लिया। रामायण के अनुसार एक बार रावण का भाई अहिरावण भगवान श्री राम और लक्ष्मण को मूर्छित करके पाताल लोक ले गया था, जिसके कारण हनुमान जी पाताल लोक पहुँच गये। अपनी रक्षा के लिए अहिरावण ने अलग-अलग दिशाओं में पांच दीपक जलाए थे। जब तक इन दीपकों को कोई एक साथ नहीं बुझाता, अहिरावण की मृत्यु नहीं हो सकती थी। इस रहस्य को जानकर हनुमान जी ने पंचमुखी हनुमान का रूप धारण किया और एक साथ अलग-अलग दिशाओं में जल रहे पांच दीपकों को बुझा दिया। इसके बाद अहिरावण का वध हो गया। इस प्रकार पंचमुखी हनुमान के अवतार ने श्री राम और लक्ष्मण को संकट से निकालकर उनकी जान बचाई।

Share This Article
Leave a comment